Shbdo ki ashudhiya||शब्दों की अशुद्धियाँ ||

February 21, 2021

शब्दों की अशुद्धियाँ (Shbdo ki ashudhiya)

व्याकरण के सामान्य नियमों की ठीक -ठीक जानकारी न होने के कारण विद्यार्थी से बोलने और लिखने में प्रायः भद्दी भूलें हो जाया करती हैं। शुद्ध भाषा के प्रयोग के लिए वर्णों के शुद्ध उच्चारण, शब्दों के शुद्ध रूप और वाक्यों के शुद्ध रूप जानना आवश्यक हैं।

विद्यार्थी से प्रायः दो तरह की भूलें होती हैं- एक शब्द-संबंधी, दूसरी वाक्य-संबंधी।
शब्द-संबंधी अशुद्धियाँ दूर करने के लिए छात्रों को श्रुतिलिपि का अभ्यास करना चाहिए।

कुछ अशुद्धियों की सूची उनके शुद्ध रूपों के साथ यहाँ दी जा रही है-

अशुद्धशुद्ध
अनुकुलअनुकूल
अध्यनअध्ययन
अस्थानस्थान
अद्वितियअद्वितीय
अरमूदअमरूद
ईर्षाईर्ष्या
उँचाईऊँचाई
उन्नतीउन्नति
नमष्कारनमस्कार
नबावनवाब
नछत्रनक्षत्र
नारिनारी
राज्यमहलराजमहल
निरोगनीरोग
पुष्टीपुष्टि
प्रंतुपरंतु
पूण्यपुण्य
पुस्पपुष्प
छि: छि:छी छी
उपरऊपर
उज्वलउज्ज्वल
उत्कृष्ठउत्कृष्ट
कलसकलश
कल्यानकल्याण
गनितगणित
गृहस्थ्यगृहस्थ
चिन्हचिह्न
चांदचाँद
छमाक्षमा
ज्येष्टज्येष्ठ
यथेष्ठयथेष्ट
शत्रुह्नशत्रुघ्न
रसायणरसायन
रामायनरामायण
लछिमनलक्ष्मण
लिक्खालिखा
लच्छनलक्षण
बनावासवनवास
छःछह
अनाधिकारअनाधिकार
पृष्टपृष्ठ
प्राप्तीप्राप्ति
पत्निपत्नी
प्रसंशाप्रशंसा
प्रनामप्रणाम
पमेश्र्वरपरमेश्र्वर
परिक्षापरीक्षा
पुज्यपूज्य
पुरष्कारपुरस्कार
प्रशादप्रसाद
प्रतिकुलप्रतिकूल
प्रानप्राण
परस्थितिपरिस्थिति
पिचासपिशाच
ब्रम्हब्रह्य
बुढाबूढा
ब्राम्हनब्राह्यण
भष्मभस्म
मट्टीमिट्टी
मैथलीशरणमैथिलीशरण
दांतदाँत
हिंदुहिंदू
हंसनाहँसना
हिन्दूस्तानहिन्दुस्तान
मैत्रतामित्रता, मैत्री
ऐक्यताएकता, ऐक्य
धैर्यताधैर्य, धीरता
माधुर्यतामाधुर्य, मधुरता
पैत्रिकपैतृक
एकत्रितएकत्र
सकुशलपूर्वकसकुशल कुशलतापूर्वक
उपरोक्तउपर्युक्त
उपरीलिखितउपरिलिखित
निरसनीरस
सन्याससंन्यास
मंत्रीमंडलमंत्रिमंडल
योगीराजयोगिराज
भाग्यमानभाग्यवान्
विद्वानविद्वान्
व्यावहारव्यवहार
धनमानधनवान्
बिठायाबैठाया
पहिलेपहले
वीनावीणा
वानीवाणी
वास्पवाष्प
सप्ताहिकसाप्ताहिक
सन्मानसम्मान
सिंदुरसिंदूर
सुर्यसूर्य
समुद्रिकसामुद्रिक
सुर्पनखाँशूर्पणखा
साशनशासन
सृष्टीसृष्टि
स्मसानश्मशान
सम्राज्यसाम्राज्य
संसारिकसांसारिक
समीतिसमिति
सूचिपत्रसूचीपत्र
स्वास्थस्वास्थ्य
स्मर्णस्मरण
सृंगारश्रृंगार
शक्तीशक्ति
षष्टषष्ठ
बुद्धिवानबुद्धिमान्
भगमानभगवान्
घनिष्टघनिष्ठ
आंखआँख
बांसबाँस
अंगनाअँगना
कंगनाकँगना
उंचाऊँचा
जाऊंगाजाऊँगा
दुंगादूँगा
छटांकछटाँक, छटाक
पांचवापाँचवाँ
शिघ्रशीघ्र
गुंगागूँगा
पहुंचापहुँचा
गांधीजीगाँधीजी
सूंडसूँड
बांसुरीबाँसुरी
महंगामहँगा
मुंहमुँह
उंगलीऊँगली
जहांजहाँ
डांटडाँट
कांचकाँच
भिजवायाभेजवाया
पछितानापछताना

admin